[Lock up] Best Munawar Faruqui shayari - मुनव्वर फारुकी Shayari in Hindi

Munawar-faruqui-shayari

मुनव्वर फारूकी एक भारतीय स्टैंडअप कॉमेडियन और रैपर हैं इसके साथ - साथ मुनावर एक बेहतरीन शायर भी है उन्होंने हाल ही में Lock up (Munawar faruqui shayari lock up) शो में भी भाग लिया है जहां उन्होंने अपनी लिखी हुई शायरी ऑडियंस को सुनाई जिसके कारण वह खूब चर्चा में रहते है आज की उनकी (Munawar Faruqui Shayari) शायरी बताने वाले है उनकी लिखीं शायरी Munawar faruqui ek shayari likhi hai shayari इंटरनेट पर खूब सर्च की जा रही है इसलिए इसे भी इस पोस्ट में सम्मिलित किया गया है ।

Also Read : निखत जरीन जीवन परिचय - Nikhat zareen Biography In Hindi

{tocify} $title={Table of Contents}

Munawar Faruqui shayari

अपने बचपन को ही में सिक्कों में तोड़ लाया ,
अपनी राहतों को पीछे कहीं छोड़ आया ,
खुशबू सब में थी में नसल पहचानता कैसे ,
गया फूल लेने कांटे सारे तोड़ लाया ।

Munawar Faruqui Shayari In Hindi

Apane bachapan ko mein sikkon hee mein tod laaya ,
apanee raahaton ko peechhe kaheen chhod aaya ,
khushaboo sab mein thee mein nasal pahachaanata kaise ,
gaya phool lene kaante saare tod laaya

                                                                             

कुछ तो तुभी कहदे
खामोशी तेरी लाती है तूफान लेके 

kuchh to tubhee kahade
khaamoshee teree laatee hai toophaan leke

                                                                             

डूबा खुद में कैसे कोई दुआ रुके 
ये जलते सारे
में आगे बढ़ता धुआं होके
में नहीं देखता 
आगे क्या मुसीबत है 
मेरे पीछे काफिले हैं
चलते दुआ लेके 

dooba khud mein kaise koee dua ruke 
ye jalate saare
mein aage badhata dhuaan hoke
mein nahin dekhata 
aage kya museebat hai 
mere peechhe kaaphile hain
chalate dua leke

                                                                             

मेरे सीने पे सर रखके सोना तेरा 
किसी दिन जान लेगा मेरी 
की सांसों को रोक रखता हूं
कहीं तेरी आंख न खुल जाए ।

mere seene pe sar rakhake sona tera 
kisee din jaan lega meree 
kee saanson ko rok rakhata hoon
kaheen teree aankh na khul jae .

                                                                             

वाकिफ है सब तो फसाने दर्द के गाउं क्या 
जहन में गालिब तो खजाना कोई लाऊं क्या 
वो कहते चुबते मेरे लब्ज़ उन्हें बहुत
चीर देगी खामोशी चुप हो जाऊं क्या 

vaakiph hai sab to phasaane dard ke gaun kya 
jahan mein gaalib to khajaana koee laoon kya 
vo kahate chubate mere labz unhen bahut
cheer degee khaamoshee chup ho jaoon kya

                                                                             

हाथ थंडे, दिल में आग लिए बैठा हूं, 
चेहरे पर हसी, आंखों में सैलाब लिए बैठा हूं, 
परवाह नहीं मुझे इन बे-नींद रातों की, 
मैं ख्वाबों को पूरे करने की ज़िद लिए बैठा हूं।


Munawar Faruqui Shayari In Hindi

haath thande, dil mein aag lie baitha hoon, 
chehare par haansee, aankhon mein sailaab lie baitha hoon, 
paravaah nahin mujhe in be-nind raaton kee, 
main khvaabon ko poore karane kee zid lie baitha hoon.

                                                                             

EK SHAYARI LIKHI HAI KABHI MILOGE TO SUNAUNGA


एक शायरी लिखी है 
कभी मिलोगे तो सुनाऊंगा
तेरी सूरत साफ शीशे की तरह
मेरे दामन में दाग हजारों है 
तू नायाब किसी पत्थर की तरह
मेरा उठना बैठना बाजारों में है 
तेरी मोजूदगी का एहतराम कर भी लूं
जब होगा रूबरु तो ये ज़ज़बात कहाँ छुपाऊंगा
एक उमर लेके आना
मैं खाली किताब ले आउंगा
तोड़ कर लाने के वादे नहीं
मैं अपनी कलम से सितारे सजाऊंगा
मेरी सब्र की इंतहा पर शक कैसा
मैंने तेरे आने जाने पे ता उमर लिखी है
ज़मीन पे कोई खास नहीं मेरा
तू एक बार क़ुबूल कर में अपने
गवाहों को आसमा से बुलवाउंगा
एक शायरी लिखी है
कभी मिलोगे तो सुनाऊंगा।
कई रात गुजारी है अंधेरे में
तुम थोड़ा सा नूर ले आओगे
मेरे तकिये पीले हैं आंसुओं से,
क्या तुम मुझे अपनी गोद में सुलाओगे,
सुना है बाग है तुम्हारे आंगन में,
मेरे ला हासिल बचपन को वो झूला दिखाओगे ??
मैने खोया है अपनी हर प्यारी चीज को,
में अपनी क़िस्मत फ़िर भी आजमाऊंगा
एक शायरी लिखी है
कभी मिलोगे तो सुनाऊंगा ।


Ekk Shayari Likhi Hai
Kabhi Milogi To Sunaunga
Teri Seerat Saaf Shishe Ki Tarah
Mere Daaman Me Daag Hazaaron Hain
Tu Nayaab Kisi Patthar Ki Tarah
Mera Uthhna Bethhna Bazaaron Me Hai
Teri Mojoodgi Ka Ehteraam Kar Bhi Lun
Jab Hoga Roobaruh To Ye Zazbaat Kahan Chupaunga
Ek Umr Leke Aana
Main Khali Kitaaben Le Aaunga
Tod Kar Laane Ke Waade Nahi
Main Apni Kalam Se Sitaare Sajaunga
Meri Sabr Ki Intehaa Par Shak Kaisa
Mene Tere Aane Jaane Pe Ta Umr Likhi Hai
Zameen Pe Koi Khaas Nahi Mera
Tu Ek Baar Qubool Kar Me Apne 
Gawahon Ko Aasmaa Se Bulwaunga
Ekk Shayari Likhi Hai
Kabhi Milogi To Sunaunga.
Kai Raat Guzari Hai Is Andhere Mein
Tum Thoda Sa Noor Le Aaoge
Mere Takiye Geele Hain Aansuon Se,
Kya Tum Mujhe Apni God Me Sulaoge,
Suna Hai Baag Hai Tumhaare Aangan Me,
Mere La Haasil Bachpan Ko Wo Jhoola Dikhaoge??
Maine Khoya Hai Apni Har Pyari Cheez Ko,
Mai Apani Qismat Phir Bhi Aazmaunga
Ekk Shayari Likhi Hai
Kabhi Milogi To Sunaunga.

                                                                             

वो झूठे वादे करते हैं मगर मिलने नहीं आते, 
हम भी कमबख्त ये इश्क़ से बाज़ नहीं आते।

vo jhoothe vaade karate hain magar milane nahin aate, 
ham bhee kamabakht ye ishq se baaz nahin aate.

Munawar Faruqui Shayari In Hindi


वो ढूंढ रहें हैं वजह मेरे मुस्कुराने की, 
नादान मेरे सजदों से बे-खबर हैं।

Munawar Faruqui Shayari In Hindi

vo dhoondh rahe hain vajah mere muskuraane kee,
naadaan mere sajadon se be-khabar hain

                                                                             

मेरा ख्वाब जागेगा मेरी नींद भरी आँखों में,
आँख लगे तो कभी थाम लेना हाथ मेरे...

Mera Khwaab Jagega Meri Neend Bhari Aankhon Mein, Aankh Lage To Kabhi Thaam Lena Haath Mere...

                                                                             

बादशाओं को सिखाया है कलन्दर होना 
तुम आसान समझते है क्या मुनावर होना 
दिन भर हस्ति शकल लेके चलना रट सजदोन मैं 
और गीले तकियों पे सोना

Badshaon ko sikhaya hai kalander hona Tu aasan samjhta hai kya munawar hona Din bhar hasti shakal leke chalna Rote sajdoon main aur gile takiyon pe sona

                                                                             

मैं अपनी करवटो का हिसाब लिए बेथा हूं
मैं राजदार उनके राज लिए बेथा हूं
नहीं है घर्ज अब कोई परछाई बने मेरी
मैं अपने सायों से नफ़रत किया बैठा हूं ।

Mai apni karvaton ka hisab liye betha hoon
Mai Raazdaar unke Raaz liye betha hoon
Nahi he Gharz ab koi parchai bane meri
Mai apne saayon se nafrat kiye betha hoon

                                                                             

कई जलजले हैं क़ैद मुझमें लगे हुनरत, 
हां मैं खुद मैं एक सैलाब हूं...

Kai zalzale hain qaid mujhme lage HUNARAT, Haan mai Khud mai ek Sailaab hoon...

                                                                             

तेरे जलाल से अब तक ये दुनिया बे खौफ थी
गुनाहों से भारी इनकी शाम ए शोखी थी
जाने किस के सजदे से चल रहा है
निज़ाम दुनिया का?
क़यामत के लिए तो उस बच्चे की भुख ही बहुत थी।

Tere jalaal se ab tak yeh duniya be khauf thi
Gunahon se bhari inki sham e shokh thi
Jaane kis ke sajde se chal raha hai
nizam duniya ka?
Qayamat ke liye toh uss bacche ki bhukh hi bahot thi.

                                                                             

अफसोस है के तुम्हें अफ्सोस मैं रहना होगा
जलील अंदर बहार गुमान मैं रहना होगा
रुसवा तो तुम्हें भी होना है उस अखैरत मैं 
जब मेरी बे-नींद रातों का हिसाब देना होगा...

Afsos hai ke tumhe afsos mai rehna hoga
Zaleel ander bahar gumaan mai rehna hoga
Ruswa toh tumhe bhi hona hai uss akhairat mai Jab Meri be-nind raaton ka hisab dena hoga...

                                                                             

एक ही तरकीब आती है मुझे गम छुपाने की
फिर भी पुछ रहे हैं वो वजाह मेरे मुस्कुराने की...

Ek hi tarkeeb aati hai muje ghum chupane ki
Fir bhi puch rahe hain woh wajah mere muskurane ki...


                                                                             

कुछ रास्ता लिख देगा ,
कुछ में लिख दूंगा 
वो लिखते जायेंगे मुश्किल ,
में मंजिल लिख दूंगा।

Kuch raasta likh dega, 
Kuch mai likh dunga 
Vo likhhte jayein mushkil, 
Main manzil likh dunga...

                                                                             

सूखी जमीन कहती मुझपे कब बरसोगे
पर मेरा बड़ा कल मिलने को तरसोगे
देते बिछा मेरे पैरों में मखबल
में रोकू ये कहके जुड़ा अब भी फर्शों से ।

Sookhi zameen kehti Mujhpe kab barsoge
Par mera waada Kal Milne ko tarsoge
Dete bicha mere pairo me makhmal
Mai ruku ye kehke jura ab bhi farsho se


Tag - 
munawar faruqui shayari
munawar faruqui shayari in hindi
munawar faruqui shayari lock up lyrics
munawar faruqui shayari lyrics
munawar faruqui ek shayari likhi hai full shayari
munawar faruqui poetry in hindi
munawar faruqui shayari lock up
munawar faruqui ek shayari likhi hai shayari


HRitik

नमस्कार,में हूं "रितिक "और में एक स्टूडेंट हूं मुझे लिखना बहुत पसंद है इसलिए में जरूरी जानकारियां इस ब्लॉग पर शेयर करता हूं ताकि इससे लोगों की कुछ मदद हो सके मुझे लगता है आपको ये ब्लॉग पसंद आयेगा।

1 Comments

Previous Post Next Post